ऐसे तैयार होती है दिवाली की मिठाई, गंदगी देख खाने से कर लेेंगे नफरत

15

Source: bhaskar.com

मिठाई या मावे में मिलावट करना बेहद गंभीर है क्योंकि इससे लोगों की सेहत पर बुरा असर पड़ता है।ऐसे तैयार होती है दिवाली की मिठाई, गंदगी देख खाने से कर लेेंगे नफरत

पंचकूला. फेस्टिवल सीजन में खराब मिठाइयां लोगों की सेहत बिगाड़ सकती है, ऐसा करने वालों के खिलाफ अब स्वास्थ्य विभाग ने 11 टीमें तैयार की हैं। वहीं, फूड एंड सेफ्टी डिपार्टमेंट की ओर से रोजाना मिठाई बनाने वाली फैक्ट्रीज, डेयरी और दुकानों पर रेड की जा रही है। इन जगहों पर मिठाइयां और उनको बनाने का सामान खराब स्थिती में मिल रहा है। इसके बाद उन लोगों पर तुरंत एक्शन भी लिया जा रहा है। इन दिनों मिठाई की ज्यादा खपत होने के कारण लोग मिलावटी मिठाई बनाने लगते हैं। जानें क्या है मिठाई, दूध और इसके स्टैंडर्ड और कैसे होती है इनकी जांच….

– स्टैंडर्ड के मुताबिक खोया यानि मावा में 70 फीसदी से ज्यादा मिल्क फैट का होना जरुरी होता है।
– खोये में मिलावट है या नहीं इसके लिए सैम्पल लिया जाता है और इसको मशीन में डाला जाता है, इसके बाद मशीन फैट बताती है।
– वहीं पनीर और दूध की जांच भी ऐसी होती है। इसके अलावा मिठाई में खतरनाक रंगों और केमिकल की मिलावट की आशंका पर जांच की जा सकती है।
– मिठाई खराब है या नहीं, मिठाई बनाते वक्त इसमें कोई कीड़ा तो नहीं गिर गया, इसकी जांच भी की जा सकती है।
– मिठाई में मिलावट पाए जाने पर आरोपी पर पांच लाख रुपए तक का जुर्माना लगाया जा सकता है, खराब मिठाई बेचने या उसमें किसी तरह का कीड़ा वगैरह पाए जाने पर मिठाई को डिस्ट्रॉय करने और सजा का भी कानून है।
एक्सपर्ट के मुताबिक दूध की यूं करें जांच
यूरिया : दूध में दो मिली यूरिया रिजेंट डालें और दोनों को अच्छी तरह मिलाएं, पीला रंग दिखाई दे तो यूरिया की मिलावट है।
अमोनिया : दूध में अमोनिया रिजेंट मिलाएं, रंग भूरा हो जाए तो दूध में अमोनिया फर्टिलाइजर मिलाया है।
स्टार्च : दूध उबालें, ठंडा होने पर इसमें स्टार्च की कुछ बूंदें डालें, नीला रंग हो तो फर्टिलाइजर है।
ग्लूकोज : ग्लूकोज रिजेंट केमिल डालें। तीन मिनट तक इसे उबलते पानी में रहने दें। ठंडा होने पर मिलीमीटर ग्लूकोज रिजेंट मिलाएं। गहरा नीला रंग हुआ तो ग्लूकोज है।
ये था मामला
– पंचकूला में की गई रेड में फूड डिपार्टमेंट हरियाणा के ज्वाॅइंट कमिश्नर डीके शर्मा, अाॅफिसर सुभाष चंद्र, असिस्टेंट ड्रग कंट्रोलर मनमोहन तनेजा और ड्रग कंट्रोलर आदर्श गोयल थे।
– फूड एंड सेफ्टी ऑफिसर सुभाष चंद्र ने बताया कि गुरु डेयरी, बेक एंड बेकर और इंडस्ट्रियल एरिया में अनुपम स्वीट्स की फैक्टरी में छापेमारी की गई। यहां मिठाइयाें में खराबी और चासनी भी खराब मिली थी, जिन्हें नष्ट करवाया गया है।
– फूड सेफ्टी ऑफिसर सुभाष ने बताया कि इन सभी के सैम्पल क्लेक्ट किए गए है, जांच के लिए लैब भेजा जाएगा।
– इसके बाद 15 दिन तक इन सभी सैम्पल की रिपोर्ट जाएगी, इसके बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी।
– पिछले कुछ महीने पहले भी विभाग की ओर से छापेमारी कर सैम्पल क्लेक्ट किए गए थे, इनमें से अभी आधा दर्जन से ज्यादा सैम्पल की रिपोर्ट आनी बाकी हैं।
ऐसे तैयार होती है दिवाली की मिठाई, गंदगी देख खाने से कर लेेंगे नफरत
क्रीम निकले मावे की चिकनाई कम होती है।
मावा : यूरिया,वनस्पति घी, रिकमंड पाउडर, उबले आलू के मिले होने की संभावना रहती है।
ऐसे करें जांच
– मावा शुद्ध है या नहीं, इसकी पहचान के लिए टिंचर आयोडीन डालते ही मिलावटी मावा नीला पड़ जाता है।
– क्रीम निकले मावे की चिकनाई कम होती है। मिलावटी मावा चखने पर कड़वा एवं खट्टा लगता है।
ऐसे तैयार होती है दिवाली की मिठाई, गंदगी देख खाने से कर लेेंगे नफरत
नकली घी होने पर दाने उभर जाते हैं।
देशी घी :वनस्पति घी, एसेंस, उबले आलू एवं तेल की मिलावट की संभावना।
ऐसे करें जांच
इसकी जांच के लिए घी को हथेली पर रगड़ने पर खुशबू एवं चिकनापन रहता है। नकली घी होने पर दाने उभर जाते हैं।
दूध में अमोनिया रिजेंट मिलाएं, रंग भूरा हो जाए तो दूध में अमोनिया फर्टिलाइजर मिलाया है।
– मिलावटी मिठाई खरीदने से ग्राहकों को दोहरा नुकसान
– मिलावटी मिठाई बेचने से दुकानदार की तो चांदी हो जाती है, मगर खरीदने वाला मावा, दूध, बर्फी में 25 प्रतिशत की मिलावट हो तो भी दाम 100 प्रतिशत शुद्धता के ही चुकाता है।
– मावा मिठाई में सूजी, कार्बोहाइड्रेट, स्टार्च आदि की मिलावट हो सकती है।
– डॉक्टरों के अनुसार फंगस वाली या बासी मिठाई खाने से पेट में इंफेक्शन व फूड पॉयजन हो सकता है। इससे कई तरह की हानि हो सकती है।
– कुछ रुपए में खरीदी गई मिलावटी मिठाई को खाने से बीमार होने पर इलाज में कई गुना रुपए खर्च हो सकते हैं।
आगे की स्लाइड्स में देखें, खबर से जुड़ीं फोटोज…
मिलावटी सोन पपड़ी सख्त होती है।
सोन पपड़ी : घटिया क्वालिटी के घी की मिलावट की संभावना हो सकती है, सोन पपड़ी देशी घी से बनती है और बहुत सॉफ्ट होती है।
ऐसे करें जांच :मिलावटी सोन पपड़ी सख्त होती है। मिलावटी से अजीब-सी बदूब आती है।
मिलावटी मावा चखने पर कड़वा एवं खट्टा लगता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here