देश का इकलौता हाइटेक मंदिर, US की कंपनी करेगी सिक्‍युरिटी – FACTS

7

Source: bhaskar.com

दुनिया का सबसे ऊंचे चंद्रोदय मंदिर का निर्माण चल रहा है। इस काम में करीब एक हजार मजदूर और इंजीनियर लगे हुए हैं।
 देश का इकलौता हाइटेक मंदिर, US की कंपनी करेगी सिक्‍युरिटी - FACTS
मथुरा.यूपी के एक्स सीएम अखिलेश यादव सैफई स्थित अपने स्कूल में 51 फीट ऊंची भगवान कृष्ण की प्रतिमा तैयार करवा रहें हैं। इस प्रतिमा का निर्माण बेहद ही गोपनीय ढंग से पिछले 6 महीने से किया जा रहा है। ऐसे में

मथुरा में दुनिया का सबसे ऊंचे चंद्रोदय मंदिर के निर्माण के बारे में बताने जा रहा है। इसमें करीब एक हजार मजदूर और इंजीनियर लगे हुए हैं। 511 पिलर, 210 मीटर (70 मंजिल) ऊंचे मंदिर का भार सहेंगे। प्रोजेक्ट के डायरेक्टर नरसिंम्‍हा दास ने मंदिर के निर्माण से संबंधित रोचक फैक्‍ट्स शेयर किए। जानिए मंदिर की खासियत…
– इस्कॉन सोसाइटी ने वृंदावन में वर्ल्ड के सबसे ऊंचे मंदिर का कंस्ट्रक्शन शुरू कर दिया है। उन्‍होंने बताया कि ये मंदिर 2022 में बनकर तैयार होगा। फिलहाल एक हजार मजदूर यहां काम कर रहे हैं, एक साल बाद ये संख्‍या तीन गुनी हो जाएगी।
– मंदिर को बनाने में करीब 700 करोंड़ रुपए से ज्‍यादा खर्च होंगे। पूरी बिल्डिंग में 511 पिलर होंगे। इन पर पूरी बिल्डिंग का वजन 5 लाख टन होगा, जबकि ये पिलर नौ लाख टन वजन सह सकते हैं।
– मंदिर की ऊंचाई 700 फीट होने की वजह से इसपर विमान से आतंकी हमले की आशंका रहेगी। इसलिए इसमें अमेरिकी सिक्युरिटी कंपनी (पिंकेर्टोन) के सिक्युरिटी गार्ड्स तैनात रहेंगे। इसमें वर्ल्‍ड ट्रेड सेंटर जैसे हमले रोकने का भी इंतजाम किया जाएगा। मंदिर का परिसर 50 एकड़ का होगा। इसमें छह हेलीपैड बनाए जाने की योजना है।
– चंद्रोदय मंदिर को पिरामिड का डेवलप्ड फॉर्म कह सकते हैं। 2006 में इसकी परिकल्पना की गई और 8 साल की तैयारियों के बाद 2014 में नींव रखी गई। प्रोजेक्ट डायरेक्टर नरसिंम्‍हा दास के मुताबिक, इसकी नींव कुतुब मीनार की ऊंचाई जितनी गहरी खोदी गई है।

  

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here