छठ पूजा तभी होगी जब सेफ्टी की जिम्मेदारी लेंगे आयोजक, पुलिस का फरमान

10

Source: bhaskar.com

बिहार परिषद संस्था करवाती है 42 की लेक में छठ पूजा का आयोजन।छठ पूजा तभी होगी जब सेफ्टी की जिम्मेदारी लेंगे आयोजक, पुलिस का फरमान

चंडीगढ़.अगर अब आपको चंडीगढ़ में कोई धार्मिक कार्यक्रम करवाना है तो चंडीगढ़ पुलिस को ये लिखकर देखा होगा कि यहां कोई दंगा या जानमाल का नुकसान नहीं होगा। ऐसा आप नहीं करते हैं तो आपको कार्यक्रम करवाने की इजाजत नहीं होगी। दरअसल, पंचकूला में बाबा राम रहीम के समर्थकों द्वारा मचाए गए उत्पात के बाद अब चंडीगढ़ पुलिस हर बड़े आयोजन को शक की निगाह से देख रहा है। यही वजह है कि छठ पूजा जैसे धार्मिक कार्यक्रम को भी इजाजत देने के लिए पुलिस ने अब सारी जिम्मेदारी आयोजकों पर ही डाल दी है।

छठ पूजा के आयोजक बिहार परिषद से कहा गया है कि अगर वह लिखकर देंगे कि छठ पूजा में होने वाले जान माल के नुकसान के वह जिम्मेदार हैं तो ही वह छठ पूजा के आयोजन की अप्रूवल देंगे। जबकि पुलिस ये भी भूल चुकी है कि इस कार्यक्रम में शामिल होने वाले लोग किसी बाबा के समर्थक नहीं हैं। लेकिन ये वो लोग हैं जो हर साल की तरह इस बार भी अपने धार्मिक कार्यक्रम का हिस्सा बनना चाहते हैं। जबकि आज से पहले कभी भी इस आयोजन के लिए ऐसी शर्त नहीं रखी गई थी।
मजबूरी में दिया लिखकर
26 और 27 अक्टूबर को छठ पूजा होनी है। इस पूजा में हर साल करीब 50 हजार लोग हिस्सा लेते हैं। न्यू लेक सेक्टर-42 में होने वाले इस कार्यक्रम को पिछले कई सालों से बिहार परिषद द्वारा आयोजित किया जा रहा है। बिहार परिषद के अध्यक्ष उमाशंकर पांडे ने कहा कि हमें एसएसपी ऑफिस से कहा गया कि जब तक हम लिखकर नहीं देंगे तब तक इस आयोजन को करने की इजाजत नहीं होगी। पुलिस कह रही है कि जो पंचकूला में राम रहीम के मामले में हुआ वैसा कहीं यहां न हो जाए। इस पर हमने पुलिस से कहा कि वह प्रोटेस्ट था और यहां आस्था व धर्म की बात है लेकिन पुलिस ने एक न सुनी। हमें कहा गया कि अपनी जिम्मेदारी का लेटर एसएसपी ट्रैफिक और नगर निगम कमिश्नर को भेजें और मजबूरन हमने ऐसा किया भी।
जिम्मेदारी आयोजक की तो पुलिस क्या करेगी
उमा शंकर पांडे ने कहा कि हम यहां लोगों को फल-दूध जैसे प्रसाद बांटेंगे। कोई हादसा हो जाता है तो इसमें हम क्या कर सकते हैं। अगर सारी जिम्मेदारी लेते हुए हमें ही सब कुछ करना है तो फिर पुलिस व प्रशासन किस लिए है। हम अपनी सारी तैयारियां पूरी कर चुके हैं और ऐसे में छठ पूजा नहीं होती तो हमारा काफी नुकसान होता और लोगों के लिए भी यह दिन बहुत महत्व रखता है।
दीपक यादव, डीएसपी साउथ का कहना है कि हमने जो भी निर्देश जारी किए हैं वो नियमों के तहत ही किए हैं। फिर भी मैं सोमवार को ऑफिस जाकर मामले को एक बार फिर से देखूंगा और कुछ सॉल्यूशन निकालेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here