UP: विजयदशमी पर हुआ रावण दहन, लखनऊ में 121 फीट ऊंचा फूंका गया पुतला

5

Source: bhaskar.com

लखनऊ के ऐशबाग रामलीला मैदान में इस बार 121 फीट का रावण जलाया गया।

लखनऊ के ऐशबाग स्थित रामलीला मैदान में 3 मिनट के आतिशबाजी के बाद 121 फीट के रावण का दहन किया।

लखनऊ.विजय दशमी के दिन राजधानी के ऐशबाग स्थित रामलीला मैदान में 3 मिनट के आतिशबाजी के बाद 121 फीट के रावण का दहन किया। इस दौरान डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा और गवर्नर राम नाईक भी मौजूद रहे। कैबिनेट मिनिस्टर ब्रिजेश पाठक भी साथ दिखाई दिए। आयोजकों का कहना है कि इस बार रावण के दहन के साथ कन्या भ्रूण हत्या, तुष्टीकरण और डर को नष्ट करने का संदेश दिया गया। आगे पढ़िए गवर्नर ने क्या कहा…

– राज्यपाल राम नाईक ने कहा, ”जिस तरह लखनऊ में रामलीला का आयोजन किया जाता है, उसी तरह अन्य जगहों पर भी होता है। सौभाग्य है कि आप लोगों के बीच आकर मैं रामलीला देख परा रहा हूं।”
– ”भगवान श्रीराम किसी एक धर्म के मानने वालों के नहीं थे। उन्हें सभी धर्मों के लोग मानते हैं। यही कारण है कि कई मुस्लिम देशों में भी रामलीला मनाई जाती है।”
– ”मुझे उम्मीद है कि आज कन्या भू्रण हत्या एवं तुष्टीकरण रूपी रावण का दहन किया गया है। मैं आप सभी लोगों को आगामी 18 अक्टूबर को अयोध्या आने का निमंत्रण देता हूं। वहां पर एक अद्भुत रामलीला का आयोजन किया जाएगा।”
– इससे पहले रामलीला आयोजन समिति द्वारा राज्यपाल राम नाईक का स्वागत एवं अभिनन्दन किया गया। आयोजन समिति ने राज्यपाल को स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित भी किया।
200 साल से हो रहा यहां रावण का दहन
– रावण से राम का युद्घ के चरण की अंतिम राम लीला हुए इस दौरान भीड़ मैदान में खचा खच भारी हुई थी।
– आयोजक हरीश अग्रवाल के मुताबिक, ”करीब 45 मिनट के रामलीला के बाद 9 बजे रावण को राम द्वारा तीर चलाकर दहन किया गया। बीते करीब 2 सौ साल से यह राम लीला हो रही हैं। पिछली बार समिति के निवेदन पर पीएम भी राम लीला देखने आए थे।”
# फर्रुखाबाद ​
– ​क्रिश्चियन इंटर कालेज के मैदान में राम रावण का युद्ध कई घंटों तक चला। इस दौरान सभी दर्शकों ने जय श्रीराम के नारे लगाए।
– रामलीला के खत्म होते ही रावण दहन किया गया। आतिशबाजियों से सारा माहौल गूंज उठा।
#वाराणसी
– यहां डीरेका स्टेडियम (केंद्रीय खेलकूद मैदान) में इस बार 75 फीट के रावण, 65 फीट कुंभकारण और 70 फीट ऊंचे मेघनाथ का पुतला फूंका गया।
– पुतले की खास बात ये थी कि इनको बनाने वाले सभी कारीगर मुस्लिम समुदाय के थे। पुतलों के दहन के बीच विजयदशमी समारोह मनाया गया।
– इसी तरह लगभग 7 दशक से चल रही परंपरा का निर्वहन करते हुए मलदहिया चौराहे के करीब रावण के पुतले का दहन किया गया। इसमें बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष डॉ महेंद्र नाथ पांडेय भी मौजूद थे।
# कानपुर
– यहां भी धूमधाम से दशहरे का त्योहार मनाया गया। शहर में कई स्थानों पर रावण के पुतलों का दहन किया गया।
– परेड रामलीला ग्राउंड में रावण वध की लीला और पुतला दहन देखने के लिए हजारों की भीड़ उमड़ी रही।
– रामलीला कमेटी द्वारा आयोजित दशहरा मेला में 90 फीट ऊंचा रावण का पुतले का दहन किया गया।
#झांसी
– वहीं, झांसी में रावण दहन में मुस्लिम समुदाय के लोग भी मौजूद रहे। जश्न में हजारों कीसंख्या में लोग शामिल रहे।
– इस दौरान मौजूद केंद्रीय मंत्री उमा भारती ने कहा- ”हर युग में रावण समाज में तैयार हो जाते हैं। उनके रूप में बुराइयों को खत्म करना हमारी जिम्मेदारी है।”
– ”इस धरती पर अहंकार कभी नहीं टिका।
– ”रावण विद्वान जरूर था, लेकिन गुरूर और बुरे कर्मों ने उसकी जान ले ली। वो रावण तो खत्म हो गया, अब बुराइयों के रूप में खड़े हुए रावणों को भी ख़त्म करना है।”
#मेरठ
– यहां राम लीलाओं में श्रीराम ने जैसे ही तीर चलाकर रावण की नाभि को भेदा, लंकेश रावण गिर पड़ा और उसका अंत हो गया।
– रावण का अंत होते ही जय श्रीराम के जयघोष गूंज उठे। इस दौरान बुराई और अधर्म के प्रतीक रावण के पुतलों का दहन किया गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here