हिमाचल प्रदेश की सबसे बड़ी धार्मिक यात्रा ‘मणिमहेश’ आज से शुरू

69

Source: hindi.oneindia.com

शिमला। हिमाचल प्रदेश के चंबा नगर से से मात्र 85 किलो मीटर की दूरी पर बसा है मणिमहेश। चंबा को शिवभूमि के नाम से जाना जाता है। मान्यता है कि भगवान शिव इन्हीं पहाड़ों में निवास करते हैं। मणिमहेश की यात्रा कब आरंभ हुई क्यों आरंभ हुई इसके लिए बहुत सी किंवदतियां प्रचलित हैं। कहा जाता है कि यहां पर भगवान शिव ने कई बार अपने भक्तों को दर्शन दिए हैं।

कैसे शुरू हुई यात्रा
देवभूमि हिमाचल में वैसे तो पूरे साल मेले और त्यौहार होते रहते हैं। मगर चंबा मणिमहेश भरमौर जातर का विशेष महत्व है। माना जाता है कि ब्रम्हाणी कुंड में स्नान किए बिना मणिमहेश यात्रा अधूरी है। आदिकाल से प्रचलित मणिमहेश यात्रा कब से शुरू हुई यह तो पता नहीं मगर पौराणिक मान्यताओं के अनुसार यह बात सही है कि जब मणिमहेश यात्रा पर गुरु गोरखनाथ अपने शिष्यों के साथ जा रहे थे तो भरमौर तत्कालीन ब्रम्हापुर में रुके थे। ब्रम्हापुर जिसे माता ब्रम्हाणी का निवास स्थान माना जाता था मगर गुरु गोरखनाथ अपने नाथों एवं चौरासी सिद्धों सहित यहीं रुकने का मन बना चुके थे। वे भगवान भोलेनाथ की अनुमति से यहां रुक गए मगर जब माता ब्रम्हाणी अपने भ्रमण से वापस लौटीं तो अपने निवास स्थान पर नंगे सिद्धों को देख कर आग बबूला हो गईं। भगवान भोलेनाथ के आग्रह करने के बाद ही माता ने उन्हें रात्रि विश्राम की अनुमति दी और स्वयं यहां से 3 किलोमीटर ऊपर साहर नामक स्थान पर चली गईं, जहां से उन्हें नंगे सिद्ध नजर न आएं मगर सुबह जब माता वापस आईं तो देखा कि सभी नाथ व चौरासी सिद्ध वहां लिंग का रूप धारण कर चुके थे जो आज भी इस चौरासी मंदिर परिसर में विराजमान हैं। यह स्थान चौरासी सिद्धों की तपोस्थली बन गया, इसलिए इसे चौरासी कहा जाता है। गुस्से से आग बबूला माता ब्रम्हाणी शिवजी भगवान के आश्वासन के बाद ही शांत हुईं।

भगवान शंकर ने दिया आशीर्वाद
भगवान शंकर के ही कहने पर माता ब्रम्हाणी नए स्थान पर रहने को तैयार हुईं तथा भगवान शंकर ने उन्हें आश्वासन दिया कि जो भी मणिमहेश यात्री पहले ब्रम्हाणी कुंड में स्नान नहीं करेगा उसकी यात्रा पूरी नहीं मानी जाएगी। यानी मणिमहेश जाने वाले प्रत्येक यात्री को पहले ब्रम्हाणी कुंड में स्नान करना होगा, उसके बाद ही मणिमहेश की डल झील में स्नान करने के बाद उसकी यात्रा संपूर्ण मानी जाती है। ऐसी मान्यता सदियों से प्रचलित है। इस वर्ष इस पवित्र यात्रा का छोटा स्नान कृश्ण जन्माश्टमी यानी 15 अगस्त को तथा मुख्य एवं बड़ा स्नान उसके 15 दिन बाद 30 अगस्त को होगा। यात्रा पूरी तरह से मणिमहेश यात्रा ट्रस्ट के अधीन हो रही है। हड़सर से 13 किलोमीटर की कठिन चढ़ाई एवं समुद्र तल से 13500 फुट की ऊंचाई पर स्थित मणिमहेश की डल झील एवं कैलाश दर्शन में भोलेनाथ के प्रति लोगों में इतनी श्रद्धा बढ़ गई है कि मौसम एवं कड़ाके की शीतलहर के बावजूद लाखों की संख्या में शिव भक्त यहां आते हैं। यही वजह है कि अटूट श्रद्धा के प्रतीक चौरासी मंदिर परिसर, ब्रम्हाणी माता एवं मणिमहेश लोगों को बरबस ही अपनी ओर खींच कर महीनों तक शिवजी के उद्घोषों से पूरे वातावरण को शिवमयी बनाए रखते हैं।

आक्सीजन सिलेंडर के साथ करनी पड़ती है यात्रा
ब्रहामाणी देवी के दर्शन के बाद लोग आकर चौरासी में मणिमहेश मंदिर के बाहर पारंपरिक वेशभूषा में बैठे चेलों से आशीर्वाद प्राप्त करते हैं और आगे की यात्रा के लिए तैयार हो जाते हैं। भरमौर में सातवीं शताब्दी में बने मंदिर हैं जहां के दर्शनों से ही मनुष्य के पाप धुल जाते हैं । भरमौर से आगे की यात्रा बहुत ही आनंददायक हैं। चारों और उंचे उंचे पहाड़ों के बीच से होकर जाना पड़ता है हर मोड़ पर ऐसा लगता है कि इसके आगे रास्ता बंद है। ऐसा करते करते यात्री गांव हड़सर में पंहुच जाता है। गांव हड़सर जो ब्रहामणों का गांव है। यहां पर एक प्राचीन शिव मंदिर है। ब्रहामाणी देवी मंदिर के कुंड में स्नान करने के बाद हड़सर में स्नान करने का रिवाज़ है यहां पर मणिमहेश से आने वाले पानी से स्नान किया जाता है । पुराने समय से ही इस जगह पर रहने वाले ब्रहामण लोग यात्रियों को अपने घरों में ठहराते आ रहे हैं। देखा जाये तो वास्तविक यात्रा यहीं से आरंभ होती है पैदल। आपको यहां पर घोड़े मिल जाते हैं। यहां पर कांगड़ा जिला के एक गांव के लोगों द्वारा छडिय़ों का प्रबंध किया जाता है आगे जाने वाले इस जगन से छड़ियों को लेकर चल सकते हैं। आगे हर थोड़ी दूरी पर लंगर मिल जाता है चाय पिलाते हैं काफी देते हैं प्रदेश सरकार की तरफ से भी बहुत प्रबंध किये जाते हैं डाक्टर दवाईयां लेकर हर जगह पर मिल जाता है। आक्सीजन के सिलेंडर रखे होते हैं।

तीन चरणों में होती है यात्रा
वास्तव में पहले यात्रा तीन चरणों में होती थी। पहली यात्रा रक्षा बंधन पर होती थी। इसमें साधु संत जाते थे। दूसरा चरण भगवान श्री कृष्ण जन्माष्टमी के अवसर पर किया जाता था जिसमें जम्मू काशमीर के भद्रवाह , भलेस के लोग यात्रा करते थे। ये सैंकड़ों किलो मीटर की यात्रा पैदल ही अपने बच्चों सहित करते हैं। तीसरा चरण दुर्गाअष्टमी या राधा अष्टमी को किया जाता है जिसे राजाओं के समय से मान्यता प्राप्त है। अब प्रदेश सरकार ने भी इसे मान्यता प्रदान की है। मणिमहेश कैलाश की उंचाई 18654 फुट की है जबकि मणिमहेश झील की उंचाई 13200 फुट की है। लोग मनीमहेश झील में स्नान करने के बाद अपनी अपनी श्रद्धा के अनुसार कैलाश पर्वत को देखते हुए नारियल व अन्य सामान अर्पित करते हैं झील के किनारे बने मंदिरों में भी सामान चढ़ाते हैं।

भस्मासुर से बचकर यहां छुपे थे भगवान शिव
गांव हड़सर से चलने के बाद यात्रियों को एक स्नान धनछो जल प्रपात में करना चाहिये। इसकी कहानी कही जाती है कि जब भस्मासुर भगवान शिव के सिर पर हाथ रख कर उन्हें भष्म करने के लिए प्रयास कर रहा था उस समय भगवान शिव इस जल प्रपात के अंदर छिप गये थे। काफी लंबे समय तक वो यहीं पर रहे। धनछो के आगे दो रास्ते हो जाते हैं, बांदर घाटी और भैरो घाटी। इन रास्तों पर कुछ दूर चलने के बाद हवा में आक्सीजन की कमी होनी आरंभ हो जाती है। यात्रियों को आगे की यात्रा आक्सीजन सिलेंडर के साथ करनी पड़ती है। यहां से कुछ दूर चलने के बाद गौरीकुंड आता है। गौरीकुंड में महिलाएं स्नान करती हैं। गौरी कुंड के बाद शिवकलौत्री नामक स्थान आता है सीधे कैलाश से पानी निकल कर आता है यहां पर भी स्नान करने का विधान है । पानी बर्फ की तरह ठंडा होता है फिर भी श्रद्धालु स्नान करते हैं। गौरी कुंड के बाद पाप पुण्य का पुल आता है। गौरीकुंड से लेकर आगे तक बहुत से लंगर लगे होते हैं यहां पर हजारों यात्रियों के ठहरने का प्रबंध भी रहता है। इसके आगे एक आध घंटे की यात्रा कर यात्री उपर मनीमहेश झील पर पंहुच जाते हैं। हिमाचल प्रदेश के पर्यटन विभाग ने इस जगह पर यात्रियों के ठहरने के लिए टेंट लगाए होते हैं। कुछ दूरी पर हैलिकाप्टर के आने जाने का क्रम भी लगा रहता है । बहुत ही सुंदर प्राकृतिक दृश्यों से भरपूर नजारा देखने को मिलता है।

सुरक्षा के पुख्ता बंदोबस्त
मणिमहेश यात्रा में इस बार सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं। मणिमहेश ट्रस्ट द्वारा इस बार विभिन्न महत्वपूर्ण यात्रा स्थानों के साथ ट्रस्ट के दायरे में आने वाले 8 मंदिरों में करीब 16 से 18 सीसीटीवी कैमरे लगाए हैं। इस बार भरमौर चौरासी मंदिर में जहां 10 सीसीटीवी तो 2 कैमरे भरमाणी माता मंदिर, 2 बन्नी माता मंदिर परिसर में तो 4 कैमरे मणिमहेश डल झील में लगाए गये हैं। मणिमहेश ट्रस्ट द्वारा विभिन्न स्थानों पर करीब 90 दानपात्रों को स्थापित किया है। यहां तक की मणिमहेश यात्रा के दौरान विभिन्न स्थानों पर लगने वाले लंगर स्थानों पर भी संबन्धित लंगर समिति के जिम्मे एक दानपात्र स्थापित हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here