नक्षत्र मंडल का राजकुमार है ये ग्रह, पिता से रखता है शत्रु भाव

7

Source: bhaskar.com

वैसे तो बुध नवग्रहों में से एक है, लेकिन माना जाता है कि वह नक्षत्र मंडल का राजकुमार है।
नक्षत्र मंडल का राजकुमार है ये ग्रह, पिता से रखता है शत्रु भाव
हिंदू धर्म में नवग्रहों को भी देवता के रूप में पूजा जाता है। सभी ग्रहों को जुड़ी अलग-अलग मान्यताएं भी हमारे समाज में प्रचलित हैं। ग्रंथों में भी सभी ग्रहों के विस्तृत रूप, उनके कार्य आदि का वर्णन किया गया है, लेकिन बहुत कम लोग ग्रहों से जुड़ी इन बातों के बारे में जानते हैं। ग्रहों से जुड़ी इन जिज्ञासा को शांत करने के लिए आज हम आपको बुध ग्रह के बारे में बता रहे हैं।

नक्षत्र मंडल का राजकुमार है बुध

वैसे तो बुध नवग्रहों में से एक है, लेकिन माना जाता है कि वह नक्षत्र मंडल का राजकुमार है। कारण है, चंद्रमा का पुत्र होना। चंद्रमा को आदिराज कहा गया है इसीलिए बुध को राजकुमार या राजपुत्र कहते हैं। लेकिन बुध की एक खूबी है यह अपने पिता यानी चंद्रमा से शत्रु भाव रखता है। ज्योतिष ग्रंथों में इसकी पुष्टि होती है। ये बुद्धि का अधिष्ठाता है। ब्रह्मा ने प्रसन्न होकर बुध को ग्रह बनाया। वैसे तो बुध हमेशा मंगल ही करते हैं, लेकिन जब ये सूर्य की गति का उल्लंघन करते हैं तब आंधी चलने, पानी गिरने और सूखा पड़ने जैसे अनिष्ट होने की आशंका बढ़ती है।
नक्षत्र मंडल का राजकुमार है ये ग्रह, पिता से रखता है शत्रु भाव

ऐसे हुई उत्पत्ति

एक बार चंद्रमा ने बृहस्पति की पत्नी तारा का हरण कर लिया। इसी दौरान तारा गर्भवती हो गई। बाद में ब्रह्मा के हस्तक्षेप से चंद्र ने तारा को पुन: बृहस्पति को लौटा दिया। तारा ने ही ब्रह्मा को बताया कि बुध चंद्रमा का ही पुत्र है। बृहस्पति की दो पत्नियां थीं। तारा दूसरी पत्नी थी। बुध का विवाह मनु की पुत्री इला के साथ हुआ। इनकी बुद्धि अधिक प्रखर होने के कारण ही ब्रह्मा ने इनका नाम बुध रखा।
नक्षत्र मंडल का राजकुमार है ये ग्रह, पिता से रखता है शत्रु भाव

ऐसा है बुध का स्वरूप

शास्त्रों के अनुसार, बुध देवता बहुत ही सौम्य स्वभाव के हैं। ये बड़े कृपालु और परोपकारी हैं। इनके शरीर का रंग कहीं हरा और कहीं पीला बताया गया है। मत्स्यपुराण के अनुसार, इनके शरीर का रंग पीला है। इनके चार हाथ बताए गए हैं।
पीतमाल्याम्बरधर: कर्णिकारसमधुति:।
खड्गचर्मगदापाणि: सिंहस्थो वरदौ बुध:॥
मत्स्यपुराण- 94.4

अर्थ- बुध के शरीर का रंग पीला है। ये पीले रंग की पुष्पमाला और वस्त्र धारण करते हैं। शरीर की कांति कनेर के फूल जैसी है। इनके हाथों में तलवार, ढाल और गदा रहती है। एक हाथ वरमुद्रा में है।

नक्षत्र मंडल का राजकुमार है ये ग्रह, पिता से रखता है शत्रु भाव

ज्योतिष में महत्व

ज्योतिष में बुध का बड़ा महत्व है। इसे चतुर्थ भाव का कारक माना जाता है। 32 से 35 वर्ष की अवस्था में इसका जातक के जीवन पर प्रभाव होता है। किसी भी राशि पर पहुंचने के सात दिन पहले से ही यह अपना फल देना आरंभ कर देता है। संपूर्ण राशि भोगकाल तक एक जैसा ही प्रभावशाली रहता है। यह समय समय पर अस्त, मार्गी तथा वक्री होता रहता है। सूर्य, शुक्र, राहू तथा केतु इसके नैसर्गिक मित्र हैं जबकि चंद्रमा इसका शत्रु है। मंगल, गुरु तथा शनि से यह समभाव रखता है यानी उदासीन रहता है। इसकी एक विशेषता यह भी है कि जब यह शुभ ग्रह से युक्त रहता है तो शुभ तथा पाप ग्रह से युक्त हो तो अशुभ माना जाता है। अकेले बुध की गणना शुभ ग्रह में होती है। मनुष्य शरीर में कंधे से लेकर गर्दन तक इसका अधिकार रहता है। इसके द्वारा भाई, मामा, चाचा, भतीजा, विद्या, बुद्धि, चातुर्य आदि के संबंध में विचार किया जाता है।
नक्षत्र मंडल का राजकुमार है ये ग्रह, पिता से रखता है शत्रु भाव

बुध- परिचय एक नजर में

पिता- चंद्रमा
माता- तारा
पत्नी- इला
संतान- पुरुरवा
वर्ण- हरा
स्वभाव- सौम्य
गुण- राजसी
दिशा- ईशानकोण
अधिदेवता- विष्णु
प्रत्यधिदेवता- विष्णु
एक राशि में भ्रमण का समय- एक माह

ग्रह के रूप में बुध का परिचय

बुध सौर मंडल का यह सबसे छोटा ग्रह है। आकाश में शुक्र से यह ऊपर है। इसकी गति शुक्र के अनुसार ही रहती है। पृथ्वी से दूरी करीब 3,68,41,460 मील तथा औसत गति 30 मील प्रति सैकंड है। इसका व्यास 3140 मील है। सूर्य की एक परिक्रमा यह लगभग 88 दिन में करता है। जैसे-जैसे यह सूर्य से दूर या पास होता जाता है वैसे वैसे इसका ताप बदलता जाता है। वैज्ञानिकों का मानना है कि बुध ग्रह पर किसी तरह का वातावरण नहीं है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here