दलित समुदाय के मंदिर में तोड़फोड़ और मारपीट, गांव छोड़कर जाने लगे पीड़ित

3

Source: bhaskar.com

एसएचओ थाना सदर यमुनानगर राजीव मिगलानी का कहना है कि पुलिस ने गांव छोड़कर जा रहे लोगों को समझाने की कोशिश की।दलित समुदाय के मंदिर में तोड़फोड़ और मारपीट, गांव छोड़कर जाने लगे पीड़ित

दलित परिवार की तरफ से ट्रॉली में लोड किया गया सामान।
यमुनानगर। यमुनानगर में सवर्ण जाति के परिवार ने वाल्मीकि समुदाय के लोगों से पहले तो मारपीट की और बाद में उनके घर के सामने बने मंदिर के कुछ हिस्से को भी ध्वस्त कर दिया। इतना ही नहीं गांव छोड़ने की धमकी के बाद पीड़ित परिवार गांव को छोड़कर चल भी दिया था, लेकिन बीच रास्ते पुलिस ने रोककर उन्हें समझाया। बावजूद इसके पीड़ित परिवार ने भी साफ कर दिया कि जब तक आरोपियों के खिलाफ पुलिस कार्रावाई नहीं करती, तब तक वह सड़क पर ही सामान लेकर खड़े रहेंगे। दूसरे पक्ष का कहना-तोड़फोड़ निगम की तरफ से हुई…
– घटना यमुनानगर जिले के गांव इसोपुर की है। एक घर से सामान उठा उठाकर ला रही औरतों ने बताया कि सवर्ण जाति के लोगों ने उनके परिवार के साथ मारपीट की है। साथ ही उनके घर के सामने बने मंदिर के कुछ हिस्से को तोड़ दिया।
– साथ ही दलित परिवार का आरोप है कि मारपीट के बाद उन्हें खाली करने की धमकी भी दी गई है। जब उन्होंने अपना गांव में कोई बचाव नहीं देखा तो गांव को छोड़ना ही मुनासिब समझा और एसपी यमुनानगर को इस मामले की शिकायत देने के बादगांव को खाली कर सडक पर आ गए।
– दूसरी ओर सवर्ण जाति के लोगों की मानें तो इस हिस्से को निगम ने तोड़ा है। वो तो ट्रैक्टर के साथ वहां पड़ी गंदगी को उठाकर साइड में कर रहे थे और तभी वाल्मीकि परिवार के लोगों ने उन पर हमला कर दिया।
– अब इस मामले में एसएचओ थाना सदर यमुनानगर राजीव मिगलानी का कहना है कि पुलिस ने गांव छोड़कर जा रहे लोगों को समझाने की कोशिश की तो उन्होंने कार्रवाई होने तक गांव में लौटने से साफ मना कर दिया। फिलहाल गांव के तनावभरे माहौल को देखते हुए पुलिस ने आरोी पक्ष के एक व्यक्ति को हिरासत में लिया है। आगे जिस प्रकार के बयान दिए जाएंगे, वैसी ही कार्रवाई की जाएगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here