नई हज पॉलिसी में सब्सिडी खत्म करने का प्रपोजल, केंद्रीय मंत्री नकवी को सौंपा ड्राफ्ट

6

Source: bhaskar.com

खर्च घटाने के लिए हज यात्रियों को हवाई जहाज के बजाय समुद्री रास्ते से भेजने का सुझाव भी दिया है।नई हज पॉलिसी में सब्सिडी खत्म करने का प्रपोजल, केंद्रीय मंत्री नकवी को सौंपा ड्राफ्ट

सब्सिडी बंद करने से होने वाली बचत का पैसा मुस्लिमों की बेहतरी पर खर्च किया जाएगा। -फाइल

नई दिल्ली. अगले साल से लागू होने वाली नई हज पॉलिसी का ड्राफ्ट तैयार हो गया है। शनिवार को अल्पसंख्यक मामलों के मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी को सौंपे गए ड्राफ्ट में हज सब्सिडी खत्म करने का प्रपोजल है। कमेटी के पूर्व सेक्रेटरी अफजल अमानुल्लाह की अगुआई वाले पैनल की ओर से तैयार ड्राफ्ट में कुल 16 सिफारिशें हैं। खर्च घटाने के लिए हज यात्रियों को हवाई जहाज के बजाय समुद्री रास्ते से भेजने का सुझाव भी दिया है। बचत का पैसा मुस्लिमों की बेहतरी पर खर्च होगा…

– ड्राफ्ट तैयार करते वक्त 2012 के सुप्रीम कोर्ट के आदेश का ख्याल रखा गया है। कोर्ट ने 2022 तक सब्सिडी खत्म करने को कहा था।
– सब्सिडी से बचने वाला पैसा मुस्लिमों की शिक्षा, सशक्तिकरण, कल्याण (Education, empowerment, welfare) पर खर्च होगा। ड्राफ्ट पर अभी मंत्रालय विचार करेगा।
– मंजूर होने वाली सिफारिशों पर अमल से पहले संबंधित पक्षों से भी बातचीत की जाएगी।
नई पॉलिसी​ की ये हैं प्रमुख सिफारिशें
– 45 साल से अधिक की महिलाएं 4 या अधिक के ग्रुप में बिना मेहरम हज पर जा सकेंगी। मेहरम यानी ऐसा पुरुष जिससे महिला कभी शादी न कर सके। जैसे पिता, भाई और बेटा।
– 45 से कम की महिलाएं मेहरम के साथ ही जाएंगी। मेहरम का कोटा भी 200 से बढ़ाकर 500 किया जाए।
– हज यात्रियों की रवानगी के स्थान 21 से घटाकर 9 करें। यह दिल्ली, लखनऊ, कोलकाता, अहमदाबाद, मुंबई, चेन्नई, हैदराबाद, बेंगलुरु आैर कोचीन में बनें। यहां हज हाउस भी बनाए जाएं।
क्या कहा नकवी ने?
– अल्पसंख्यक मामलों के केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने इस प्रपोजल पर कहा है कि 2018 में हज नई पॉलिसी के तहत ही होगी। प्रपोजल की फेसेलिटी के लिहाज से यह बेहतर पॉलिसी है। हज यात्रियों की सुरक्षा तय होगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here